विवाह प्रमाण पत्र कैसे बनवाएं | How to Apply for Marriage Certificate

how to apply Marriage Certificate shaadi99

अगर आप शादी करने जा रहे हैं तो आपको शादी के प्रमाण पत्र की जानकारी भी अवश्य होनी चाहिए | आज हम अपनी वेबसाइट SHAADI99.NET पर इसकी जानकारी देने जा रहे हैं | आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं। कि आप कैसे बनवा सकते हैं अपना मैरिज सर्टिफिकेट। लेकिन इसे बनवाने के प्रक्रिया को जानने से पूर्व आपका यह जानना आवश्यक है कि मैरिज सर्टिफिकेट क्या है। क्यों इसे बनाना अनिवार्य है। मैरिज सर्टिफिकेट एक ऐसी दस्तावेज है जिसे भारतीय कानून में मान्यता प्राप्त है। इसे विवाह प्रमाण पत्र भी कहते हैं। जिसका अर्थ है एक ऐसा प्रमाण पत्र है जिससे यह सिद्ध होता है कि आप कानूनन विवाहित हैं। इसे भारत के हर राज्य में लागू किया जा चुका है। एवं इसके तहत विवाहित जोड़े को हिंदू मैरिज एक्ट 1955 तथा स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के अंतर्गत विवाह के पश्चात इस सर्टिफिकेट को बनवाना आवश्यक है। इससे यह लाभ होता है कि दुर्भाग्यवश कभी आपके वैवाहिक रिश्ते में परेशानीयां आती है ।और किसी भी प्रकार से बात को थाने या अदालत तक पहुंचाना पड़ता है ।

तो ऐसे में आपके विवाहित होने के प्रमाण की आवश्यकता होती है। तब इस मैरिज सर्टिफिकेट से आपको बड़ी सहायता प्राप्त होती है। सुप्रीम कोर्ट के द्वारा वर्ष 2006 में मैरिज सर्टिफिकेट बनवाना अत्यंत आवश्यक घोषित किया गया। ऐसा इसलिए भी किया गया क्योंकि कई बार स्त्रियों को विवाह के पश्चात वैवाहिक जीवन में कफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। और ऐसे में उनकी सुरक्षा को लेकर परेशानी उत्पन्न हो जाती है। इसलिए स्त्रियों की सुरक्षा का ख्याल करते हुए दूल्हे दुल्हन की वैवाहिक जोड़ी को विवाह पंजीकरण करवाना अनिवार्य कर दिया है।तो आइए जानते हैं कि मैरिज सर्टिफिकेट कैसे बनवाया जा सकता है। इसे बनवाने में कितना खर्च आता है, एवं यह कितने दिनों में बनकर आपको प्राप्त हो जाता है। एवं इसे बनवाने के लिए कौन-कौन से महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होती है।

मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने में पैसे कितने लगते हैं:-

मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने में हिंदू मैरिज एक्ट 1955 के अंतर्गत आपको लगभग एक सौ रुपए लगते हैं। एवं स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करवाने हेतु ₹150 तक का खर्च आता है। किंतु यदि आप तुरंत मैरिज सर्टिफिकेट प्राप्त करना चाहते हैं। तो पहले आपको 10000रुपए की राशि जमा करनी होती है।

इसे बनवाने हेतु आवश्यक दस्तावेज कौन-कौन से हैं:-

इसे बनवाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता अपॉइंटमेंट के वक्त पङती है। जोकि निम्नलिखित हैं-

1. मैरिज सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करने हेतु सर्वप्रथम आपको आवेदन फॉर्म की आवश्यकता होती है।
2. पति पत्नी दोनों के जन्म प्रमाण पत्र,
3.आपका निवास प्रमाण पत्र,
4. एवं आप दोनों की विवाह की फोटो तथा दोनों के 2-2 कॉपी पासपोर्ट साइज फोटो,
5. विवाह का निमंत्रण कार्ड,
6.आपकी ड्राइविंग लाइसेंस की आवश्यकता होती है।

कैसे बनवा सकते हैं मैरिज सर्टिफिकेट :-

मैरिज सर्टिफिकेट आप दो तरीकों से बनवा सकते हैं एक तो कोर्ट में जाकर एवं दूसरा ऑनलाइन आवेदन कर। तो हम इन दोनों तरीकों के विषय में बारी- बारी से जानेंगे।

1. कोर्ट से मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने का तरीका:-

कोट से मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने हेतु सर्वप्रथम आपको sub-divisional मजिस्ट्रेट ऑफिसर के पास जाना होगा। जीसमें विवाहित जोड़े के अतिरिक्त विवाह में सम्मिलित हुए पांच अन्य लोग भी साथ जाएंगे। एवं उसके पश्चात आपको मैरिज सर्टिफिकेट फॉर्म लेना होगा। एवं उसे बिल्कुल सही तरीके से भरकर अपॉइंटमेंट में जाना होता है। यदि फॉर्म में सही जानकारी नहीं भरी गई अथवा फार्म भरने में त्रुटि हो गई तो आपका आवेदन अस्वीकार्य हो जाएगा।  एवं फिर गजट ऑफिसर के साथ एडीएम ऑफिस जाकर सारे दस्तावेजों का पुनः सत्यापन करवाना होगा। इस प्रकार से मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने हेतु आवेदन की प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी। एवं कुछ दिनों में सर्टिफिकेट आपको प्रदान कर दिया जाएगा।

2. ऑनलाइन मैरिज सर्टिफिकेट कैसे बनाएं-

ऑनलाइन आवेदन के लिए सर्वप्रथम आप जिस राज्य में निवास करते हैं। उस राज्य के गवर्नमेंट रेवेन्यू डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर जाएं एवं स्वयं को रजिस्टर्ड कर लें एवं लॉगिन कर लें। या फिर यदि पहले से इसमें आपका नाम रजिस्टर्ड करवाया हुआ है ।तो फिर इसकी आवश्यकता नहीं होती। फिर रजिस्ट्रेशन करवा लेने के पश्चात आपको रजिस्ट्रेशन नंबर तथा पासवर्ड प्राप्त होगा। जो आगे आपके काम आएगा।

इसके पश्चात स्क्रीन पर कुछ दिशानिर्देश दिखाई देंगे जिसका पालन आपको करना होगा। फिर अपना तथा अपने जोड़े का नाम सामने दिख रहे डायलॉग बॉक्स में दर्ज कर दें। एवं रजिस्ट्रेशन ऑफ मैरिज सर्टिफिकेट के विकल्प का चयन कर लें।


अब आपके समक्ष एक फाॅर्म खुल कर आएगा उसे अच्छी तरह से भरकर महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ अटैच कर सबमिट बटन को प्रेस कर दें। फिर इसके पश्चात आपको एक नंबर प्रदान किया जाएगा। उस नंबर को एक्नॉलेजमेंट स्लिप पर भर दें।

इसके बाद आप के दस्तावेजों को सत्यापित करके आप को अपॉइंटमेंट प्रदान करके आपको बुलाकर आपके आवेदन को मंजूरी प्रदान कर दी जाएगी। फिर इसके पश्चात आप अपने राज्य के गवर्नमेंट रेवेन्यू डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर जाकर मैरिज सर्टिफिकेट फॉर्म डाउनलोड करके फॉर्म का प्रिंट निकल लें। एवं इसे भरकर विवाह के कुछ गवाहों के साथ दोनों पति पत्नी को सब डिविजनल ऑफीसर के ऑफिस जाकर आगे की प्रक्रिया पूर्ण करनी होगी। एवं उसके पश्चात निश्चित समय पर आपको सर्टिफिकेट प्राप्त हो जाएगा।

विवाह प्रमाण पत्र बनने में कितना समय लगता  है

मैरिज सर्टिफिकेट आवेदन के पश्चात इसे बनकर आपको प्राप्त होने में हिंदू मैरिज एक्ट के अनुसार 15 दिनों का वक्त लगता है। किंतु स्पेशल मैरिज एक्ट के अनुसार लगभग 2 महीने का वक्त लगता है। एवं इसे कोर्ट से बनवाने में अधिक सुविधा होती है एवं यह सरलता से बन भी जाता है।

निष्कर्ष

आज की पोस्ट में हमने आपको मैरिज सर्टिफिकेट मतलब कि शादी का प्रमाण प्रत्र बनाने की शानदार जानकारी देने की कोशिश की है | हम अपने पोर्टल shaadi99.net में ऐसी ही उपयोगी जानकारी भी पोस्ट करते रहते हैं | जिससे किसी को विवाह से सम्बंधित सभी उपयोगी जानकारी मिलती रहे |

अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई होतो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें | और अगर आपके मन में कोई और सवाल हो तो हमें जरुर लिखें |

शेयर करें
Posted by: Shaadi99

Leave a Reply

Your email address will not be published.