शादी जल्दी होने के लिए क्या उपाय करें | Jaldi Shadi Ke Upay

Jaldi Shadi Ke Upay shaadi 99

शादी हमारे जीवन के एक एहम हिस्सा होता है | शादी होने पर सबजे जीवन में बहुत बदलाव आते हैं | वर – वधु को जीवन का एक उद्देश्य मिल जाता है | अगर शादी सही समय पर हो जाए तो आपका भविष्य उज्जवल हो सकता है | लेकिन कई बार शादी में देरी हो जाती है | जिससे शादी करने की उम्र निकलने लगती है | इसीलिए कुछ लोग इटरनेट पर सर्च करते रहते हैं की “मेरी शादी कब होगी” | जल्दी शादी करने के क्या उपाय हैं | यहाँ तक की लोग गूगल से भी पूछते हैं कि गूगल मेरी शादी कब होगी | इसीलिए हम यहाँ आपके लिए कुछ ऐसी जानकारी और उपाय लाये हैं जिसकी सहायता से आप अपनी शादी में हो रही देरी को दूर कर सकते हैं | यह सभी जानकारी या उपाय विभिन्न मान्यताओं और विश्वासों पर आधारित हैं | इसीलिए अगर आप भीं इन् उपायों को करना चाहते हैं तो अपने विवेक से ही करें |

सम्बंधित जानकारी :

विवाह जल्दी तय होने के कुछ उपाय:-

कई बार लोगों के विवाह के मामलों में बेवजह की देर देखी जाती है। व्यक्ति के उच्च शिक्षित एवं सभी प्रकार से कुशल होने उपरांत भी उनका विवाह तय हो नहीं पाता। इसके अतिरिक्त उनके कुंडली में भी किसी प्रकार का दोष नहीं देखा जाता है किंतु विवाह तय होने में बाधाएं उत्पन्न हो जाती है। एवं कई जगह बातचीत होने के बावजूद निराशा ही हाथ लगती है। ऐसा ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों की दशाएं खराब होने के कारण भी कई बार होता है। एवं इसकी अनेकों अलग-अलग वजहें और भी हो सकती हैं। वजह चाहे जो कोई भी हो लेकिन आज के इस लेख में हम कुछ ऐसे उपाय जानेंगे। जिससे विवाह में आ रही बाधाएं शीघ्र समाप्त होकर विवाह के योग बनते हैं। इन छोटे-छोटे नुस्खों को अपनाकर आप भी अपने विवाह में आ रही बाधाएं समाप्त कर सकते हैं। एवं अपने लिए खोल सकते हैं खुशियों के दरवाजे। तो आइए जानते हैं क्या है वह उपाय।

  1. यदि प्रत्येक सोमवार को भगवान शंकर का व्रत किया जाए। एवं नित्य गौरी शंकर की कच्चे दूध चावल और सिंदूर चढ़ाकर पूजन अर्चन की जाए। तो विवाह में आ रही मुश्किलें समाप्त हो जाती है।
  2. कई बार बृहस्पति के कमजोर होने पर विवाह के योग नहीं बनते। अतः लड़कियों की विवाह में आ रही बाधाओं को नष्ट करने के लिए बृहस्पतिवार का व्रत करना लाभकारी होता है। एवं उन्हें पीले वस्त्र धारण करने चाहिए जिससे कि उनकी कुंडली में गुरु मजबूत हो और विवाह का योग शीघ्र बने। इसके अतिरिक्त शुक्रवार के दिन सफेद वस्त्र धारण करने चाहिए इससे भी लाभ होगा।
  3. रामचरितमानस के बालकांड में मां पार्वती एवं भगवान शंकर के विवाह के प्रसंग को नित्य पूजा के वक्त नियम पूर्वक पढ़ने से एवं भगवान गौरी शंकर से अपने शीघ्र विवाह की प्रार्थना करने से भी विवाह के योग शीघ्र बनते हैं।
  4. एवं माता कात्यायनी के व्रत पूजन के साथ श्रीमद् भागवत के ब्रज की गोपियों द्वारा उच्चारित इस मंत्र (कात्यायनि महामाये महायोगिन्यधीश्वरि नंद गोप सुतं देवी पतिं में कुरु ते नमः) के नियमित जाप करने से कन्या के विवाह में आ रही मुश्किलें समाप्त होती है एवं सुयोग्य वर की प्राप्ति होती है।
  5. स्नान करने से पूर्व स्नान के उस जल में चुटकी भर हल्दी मिला दें एवं उस जल से स्नान करें। दूर होंगी विवाह में आ रही दिक्कतें।
  6. यदि एक ताले को खोल कर उसकी चाबी उसी में लगे रहने दें। एवं रात्रि के समय में उसे रास्ते में छोड़ आए इस तो नुस्खे से रिश्ता जल्दी तय होगा।
  7. पीली दाल एवं कच्चे दूध का दान प्रत्येक सोमवार को भगवान शंकर के मंदिर में करने से शीघ्र विवाह तय हो जाता है।
  8. संबंधियों के घर किसी लड़की के विवाह में सम्मिलित होने जाए ।तो विवाह से पूर्व होने वाली मेहंदी की रश्म में सम्मिलित होना चाहिए। एवं जिस लड़की का विवाह होने वाला है ।उसके हाथों से थोड़ी सी मेहंदी अवश्य ही लगवा लेनी चाहिए। इससे शुभ परिणाम की प्राप्ति होती है एवं विवाह शीघ्र तय होने में सहायता मिलती है।
  9. जब कोई रिश्ता आए तो कन्या को उनके समक्ष लाल कपड़ों में दिखाने के लिए लाना चाहिए।
  10. वट वृक्ष की 108 परिक्रमा पूर्णिमा की रात्रि में लगाई जाए। और भगवान विष्णु से प्रार्थना की जाए तो विवाह शीघ्र तय होने में कारगर सिद्ध होता है यह उपाय।
  11. यदि किसी लड़के के विवाह में कठिनाई आ रही हो तो भगवान कृष्ण की पूजा नित्य इस मंत्र के जाप के साथ करनी चाहिए। (क्लीं कृष्णाय गोविंदाय गोपीजन वल्लभाय स्वाहा)
  12. रिश्ते की बात करने के लिए घर आए मेहमानों के समक्ष लड़की और लाल वस्त्रों में जाना चाहिए। एवं उन्हें बिल्कुल प्रसन्नता पूर्वक कोई मिठाई खिलाकर ही वापस भेजना चाहिए। इससे नए रिश्ते को प्रारंभ करने के लिए सकारात्मकता प्राप्त होती है।

इन विषयों में सावधानी बरती जाए तो शीघ्र तय हो सकता है विवाह:-

  1. जो लोग विवाह योग्य है एवं उन्हें अच्छे रिश्ते की तलाश है उन्हें अपने बेड के नीचे लोहे की वस्तुएं एवं एवं रद्दी वस्तुएं नहीं रखनी चाहिए।
  2. इसके अतिरिक्त किसी के विवाह में जब सम्मिलित हों तो सुमंगली की रस्म में मंत्रोच्चार के साथ छीङके जाने वाले जल से बचना चाहिए। माना जाता है जिन पर यह जल पड़ जाता है उनके विवाह के योग कमजोर पड़ जाते हैं।
  3. कई बार वास्तु दोष के कारण भी विवाह में बाधाएं आती है। यदि कुछ वास्तु नियमों का ख्याल रखा जाए तो समाप्त हो सकती हैं ये बाधाएं। विवाह के लिए जब बातचीत करने अथवा लड़के लड़कियां देखने जाए ।तो उत्तर पश्चिम दिशा में बैठकर वार्ता करनी चाहिए। यह दिशा विवाह के तय होने में शुभ एवं सकारात्मक सिद्ध होती है।
  4. एवं जिनके विवाह में देर हो रही है उन्हें मात्र 1 दरवाजे व एक खिड़की वाले शयन कक्ष का इस्तेमाल करना चाहिए।
  5. एवं जिनके रिश्ते की बातें चल रही हो उन्हें काले रंग के वस्त्रों, काले बिछावन से परहेज करना चाहिए। काला रंग राहु केतु एवं शनि का रंग माना जाता है। जोकि विवाह जैसे शुभ कार्यों में नकारात्मकता प्रसारित करता है। शीघ्र विवाह के लिए लाल ,हरे एवं पीले रंग का प्रयोग शुभ माना जाता है।
  6. रिश्ते की वार्ता करने के लिए घर पर आए मेहमान को इस प्रकार ऐसे स्थान पर बैठाएं जिससे उनके सम्मुख घर का द्वार ना पड़े। वे घर के भीतर की ओर मुड़ कर बैठे हों।
  7. इसके अतिरिक्त यदि शादी से पूर्व लड़के लड़की मिलें तो इस बात का ख्याल रखते हुए मिलना चाहिए। कि वह दक्षिण दिशा मैं बैठकर वार्ता ना करें। दक्षिण दिशा की ओर उपका मुख मुड़ा हुआ ना हो।


सम्बंधित जानकारी :

शेयर करें
Posted by: Shaadi99 View 43

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *